Monday, September 28, 2009

हिटलर की नहीं, महिला की खोपड़ी है

Posted on 9:50 PM by Rao Gumansingh

वांशिंगटन। जर्मनी के तानाशाह शासक एडोल्फ हिटलर की मौत का रहस्य एक बार फिर गहरा गया है। हाल ही में अमरीकी पुरातत्वविद् द्वारा किए गए खुलासे में कहा गया है कि सोवियत खुफिया एजेंसियों और सेना को मिली खोपड़ी जिसे हिटलर की माना जा रहा था दरअसल वह किसी महिला की है। हिटलर के डीएनए के विश्लेषण के बाद यह बात सामने आई है।
कनेक्टिकट विश्वविद्यालय के पुरातत्वविद् और निक बेलन्टोनी ने डीएनए विश्लेषण के बाद बताया कि गोली लगी खोपड़ी को खोजा गया था वह किसी महिला की है जिसकी आयु 20 से 40 वर्ष के बीच आंकी गई है। इस खुलासे के बाद हिटलर की मौत की वजह पर फिर पर्दा पड़ गया है। संभावनाएं जताई जा रही है कि उसकी मौत बंकर में ना हुई हो। अब अमरीकी शोधकर्ताओं ने उसकी हड्डी की जांच में पाया है कि यह हड्डी काफी पतली है जबकि आमतौर पर पुरूषों की हडि्डयां सरचनात्मक रूप से मोटी होती है।
अब तक वैज्ञानिक और इतिहासकार यह मानते आए है कि बदनामी से बचने के लिए 30 अप्रेल 1945 करे हिटलर ने इवा ब्रॉन के साथ साइनाइड लेने के बाद खुद को गोली मार ली थी। हालांकि कुछ इतिहास कारों का यह भी कहना है कि खुद को हीरो बताने के लिए उसने यह कदम उठाया।
निक बेलन्टोनी ने एक अमरीकी हिस्ट्री चैनल पर बताया कि मृत व्यक्ति की उम्र चालीस से कम रही होगी जबकि मृत्यु के समय हिटलर 56 वर्ष का था। मौत के वक्त इवा और हिटलर जिस सोफे पर बैठे थे उस पर लगे रक्त के नमूने लेने के लिए निक मास्को गए। अमरीकी हिस्ट्री चैनल पर किए गए इस शोध के खुलासे में निक ने बताया कि उन्हें केवल एक घंटे के लिए हिटलर की ट्रोफियों आदि के साथ रहने दिया गया इस दौरान उन्होंने डीएनए के नमूने लिए और विश्लेषण के बाद पाया कि बंकर की खुदाई में पाई गई खोपड़ी हिटलर की नहीं बल्कि किसी महिला की है।

No Response to "हिटलर की नहीं, महिला की खोपड़ी है"